अपने जीवन को बेहतर बनाने का प्रयास – जानिए किन वर्गों में और किस तरह आप अपना जीवन बेहतर कर सकते हैं

अपने जीवन को बेहतर बनाने का प्रयास – जानिए किन वर्गों में और किस तरह आप अपना जीवन बेहतर कर सकते हैं- आप विद्यार्थी हो, प्रोफेशनल हो, ग्रहणी या रिटायर्ड हो,  अपने जीवन को बेहतर बनाने का हर एक को अधिकार होता है। जीवन को बेहतर  बनाने की चाह और कोशिश आशावादी दृष्टिकोण दर्शाता है।

मुख्यता पांच वर्गो का ध्यान करते हुए अगर उनको बेहतर बनाने का प्रयास किया जाए तो जीवन खुद-ब-खुद बेहतर हो जाता है।

वयक्तित्व सुधार के क्षेत्र को पांच मुख्य वर्गों में बांटा जा सकता है । वे इस प्रकार है –

१. स्वास्थ्य और फिटनेस

२. मानसिक और भावनात्मक सम्बल

३. पारिवारिक और सामाजिक रिश्ते

४. करियर

५. आर्थिक संपत्ति

 

१. स्वास्थय और फिटनेस –

  • खुशहाल जीवन के लिये एक अच्छी फिटनेस और स्वास्थय की आवश्यकता होती है । इसलिए लोगो को रोज़ाना अपना कुछ समय अपने स्वास्थ के सुधार के लिये निवेश करना चाहिए । लोगो को कसरत, योग , पौस्टिक भोजन और स्वास्थकर नींद की आदत डालनी चाहिए।
  • नियमित स्वस्थ जांच या मेडिकल हेल्थ चेकअप कराना चाहिए। स्वास्थ में सुधार के लिए  स्वास्थवर्धक पत्रिका और किताबों को नयी एवं उपयोगी सुझावों के लिए पढ़ना चाहिए।

Excersise

२. मानसिक और भावनात्मक  स्वास्थ्य – 

  • अपनी जिंदगी के पूरे  मज़े लेने के लिए लोगो अपनी आंतरिक शक्तियों का ध्यान रखना चाहिए। ज्यादातर लोग अपने शारीरिक  स्वास्थ्य का ही ध्यान रखते है। वे अपने मानसिक और भावनात्मक  स्वास्थ्य के प्रति सचेत नहीं होते। इसमें सुधार के लिए असीमित सुझाव है जिनमे से कुछ प्रस्तुत है –
  • पहला और और सबसे जरुरी यह है की आप अपने आप को स्वीकार करें जैसे आप हो । अपने आप को दुसरो की नज़र से न देखे।
  • अभी तक जो अपने अर्जित किया है उसके लिए अपनी प्रशंसा करे। इससे आपको अपनी भावनाओ को समझने में सहायता मिलेगी और आप मजबूत महसूस करेंगे और खुश रहेंगे।
  • अपने आप से ज्यादा उम्मीदे मत लगाइये और ना ही  परफेक्शनिस्ट बनने  पर जोर दीजिये। अपने आप से सहानुभूति रखिये। इससे आप तनाव  मुक्त और ज्यादा सकारत्मक रहेंगे ।
  • तार्किक सोच को बढ़ाये । घृणा , अपराध बोध, अति अनुशासन को दूर करके ‘जियो और जीने’ दो के सिद्धांत को अपना ले।जीवन के विभिन्न घटनाओ के परिणामो से सीखे और जीवन में बद्लाव को स्वीकार करे। इससे आप सुरक्षित महसूस करेंगे ।
  • ऐसे काम करना चुनें जिन्हें आप पूरा कर सकते हो। इससे आप का आत्मविस्वास बढ़ेगा और आप नयी चुनोतियो के लिए मोटीवेट होंगे  । अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए किताबे पढ़े और महान् लोगो के अनुभवों से लाभ उठाये । दूसरो की गलतियों से सीखे ।
  • अपनी तुलना किसी के साथ करके नकारात्मक दबाव से दूर रहे । केवल अपने आप से तुलना करे । अगर कोई समस्या है तो लोगो से बात करे और उनके निर्देश ले । अगर आप किसी पेशेवर सलाहकार को रखने में सक्षम हो तो उसकी सेवाएं लेने में हिचकिचाए मत ।
  • सोशल मीडिया पर कम समय व्यतीत करे । वास्तविक लोगो के साथ हॅसे और मौज मस्ती का समय बिताये ।जरूरत मंद लोगो के साथ कुछ समय बिताये । इससे आपके स्वाभिमान में बड़ोतरी होगी और कृतञता की भावना का विकास होगा ।अपने विचारों और अनुभवो का लिखित रिकॉर्ड रखे । आप इसको रोज़ लिखे, इससे आप अपनी भावनाओ पर नज़र रख सकेंगे ।
anshushrivastava.com
emotional health

३. पारिवारिक और सामाजिक रिश्ते- 

  • शांतिपूर्ण जीवन के लिए परिवार और मित्रो के साथ अच्छे रिश्ते का होना महत्वपूर्ण है । अपने परिवार, मित्रो और रिश्तेदारों जो आप की जरुरत के समय आप का ध्यान रकते है उनके साथ विश्वासपूर्ण व्यवहार रखना चाहिए । समाज और परिवार के साथ रिश्ते आप को कुछ विशेष बातें सीखा सकती है ।

 कृज्ञता

 स्वीकृति

 बुरी चीज़ो को जाने दो वाली सोच

दयालुता

anshushrivastava.com
family relations

४. करियर – 

  • कुछ नया सीखने की आदत का विकास करना।  अपने सुविधाओं के क्षेत्र से बाहर निकलना। बेहतर रणनीतिकार बने और सही जोखिम ले।
  • आप को अपने कार्य क्षेत्र में १% सुधार वाली थ्योरी का पालन जीवन भर करना चाहिए । सतत एवं सुदृण बढ़त ही आप को लम्बे समय के लिए महान सफलता देगी ।
  • अपने कार्य क्षेत्र से जुडी हुई नयी किताबे और आर्टिकल्स को पढ़ना जारी रखे इससे आप नयी डेवलपमेंट से अपडेट रहेंगे  ।
  • सार्वजनिक क्षेत्र में  बोलने में सुधार लाये । कार्य क्षेत्र में सुरुचिपूर्ण पहनावे के साथ आपके चेहरे पर सौम्य मुस्कराहट होनी चाहिए ।
  • आपको हमेशा उत्साहित और चुस्त दिखना चाहिए । इससे आप के चारो तरफ सकारत्मक ऊर्जा रहती है  जिससे आप  दुसरो को और  अपने आप को भी अच्छा महसूस कराते है ।
anshushrivastava.com
career

५. आर्थिक संम्पत्ति –

  • लोग पैसा कमाने के लिए कड़ी मेहतन करते है परन्तु दुख की बात है कि  वे अपने पैसो को बचत , बजट और सही तरीके से निवेश करने पर ज्यादा ध्यान नहीं देते ।
  • कुछ समय यह देखा गया है कि बावजूद पुश्तैनी संपत्ति से अच्छी आमदनी के, अपने करियर के आकर्षक वेतन के होने पर भी लोग अपने बुढापे में अपनी आर्थिक स्वतंत्रता नहीं रख पाते । ऐसा सिर्फ इसलिए होता है क्योंकि वे सही तरीको से आर्थिक व्यवस्था की जरूरत को नज़रअंदाज कर देते है।
  • यह बहुत ही आवश्यक है की आप अपनी कड़ी मेहतन से उपार्जित किये गए धन को सही निवेश विकल्पों में डाले, जिससे निवेश के द्वारा आप को एक अच्छा रिटर्न प्राप्त हो सके और संपत्ति बनाई जा सके।
  • सिस्टमैटिक और सही संपत्ति व्यवस्था से आप  आर्थिक रूप से स्वतंत्र जीवन की ओर अग्रसर होंगे। इस सम्बन्ध में अपनी सहायता के लिए आपको किसी पेशेवर सलाहकार से सलाह लेनी चाहिए।
anshushrivastava.com
economic wealth

अगर आप ऊपर लिखे गए विकल्पों पर ध्यान देंगे तो आपका जीवन जरूर सार्थक और बेहतर बनेगा।

 

 

 

Leave a Reply